नोटबंदी से खपत कम, सस्ती हुई सब्जि‍यां और महंगा हुआ आटा

shop-fix_1476789837

बीते एक महीने से जारी नोटबंदी का सीधा असर देश में खपत पर पड़ा है. इसके चलते सब्जियों, दालों समेत कपड़े और जूते-चप्पल पर आधारित महंगाई कम हुई है. केन्द्र सरकार के सांख्यिकी विभाग से जारी आंकड़ों के मुताबिक सब्जियों की कीमत में 10 फीसदी की गिरावट देखने को मिली, जबकि चीनी और कंफैक्श्नरी के उत्पादों के दाम 22 फीसदी तक बढ़े हैं.

नोटबंदी में लोगों ने नहीं की खरीदारी
जानकारों का मानना है कि नोटबंदी के असर से खुदरा मुद्रास्फीति नवंबर में कई साल के निचले स्तर 3.63 फीसदी पर आ गई है. खाद्य वस्तुओं की मांग में गिरावट से खुदरा मुद्रास्फीति नीचे आई है. नोटबंदी की वजह से पैदा हुए नकदी संकट से उपभोक्ता मांग कमजोर पड़ी है.

यह खुदरा मुद्रास्फीति का जनवरी, 2014 के बाद का निचला स्तर है. अगस्त, 2015 में यह 3.66 फीसदी पर थीं. सरकार के आंकड़ों के अनुसार उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति अक्तूबर में 4.20 फीसदी पर थी.

सस्ती सब्जी, महंगा फल
नवंबर, 2015 में यह 5.41 फीसदी थी. सब्जियों के खुदरा दाम समीक्षा वाले महीने में 10.29 फीसदी नीचे चल रहे थे. अक्टूबर में सब्जियों के दाम सालना आधार पर 5.74 फीसदी नीचे थे. हालांकि, फलों की मुद्रास्फीति नवंबर में बढ़कर 4.60 फीसदी हो गई, जो अक्तूबर में 4.42 फीसदी थी.

आटा महंगा, मीट-मछली और अंडा सस्ता
मोटे अनाजों और इसके उत्पादों की महंगाई 4.86 प्रतिशत पर पहुंच गई, जो इससे पिछले महीने 4.40 फीसदी पर थी. नवंबर में प्रोटीन वाले उत्पादों मसलन मांस और मछली की महंगाई दर घटकर 5.83 प्रतिशत पर आ गई, जो अक्तूबर में 6.16 फीसदी थी. माह के दौरान अंडों की मुद्रास्फीति 8.55 प्रतिशत पर रही, जो पिछले महीने 9.42 प्रतिशत पर थी.

साभार :आजतक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *