प्रदुषण की वजह से दिल्ली -एनसीआर में 6 साल उम्र घटी ,अबतक 5 लाख लोगो की अकाल मौत

नई दिल्ली :- राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में  रहने वाले लोगों की जिन्दगीं खतरनाक वायु प्रदुषण की वजह से लगभग छह साल कम हो चुकी है |राष्ट्रीय राजधानी में वायु प्रदुषण अब तक के सर्वोच्च स्तर पर है |मौसम की स्थिति तेज़ी से बिगड़ती जा रही है| इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के अनुसार ,जहरीली वायु के सम्पर्क में आने पर फेफड़े, रक्त ,संवहनी तंत्र ,मस्तिष्क ,हृदय और यहाँ तक की प्रजनन प्रणाली भी प्रभावित हो सकती है |एक अध्ययन  के अनुसार ,वायु प्रदुषण के कारण   पुरे देश में पांच लाख लोगों की अकाल मृत्यु हो चुकी है| IMA के अध्यक्ष डॉ.के .के अग्रवाल ने कहा , दिल्ली की आबोहवा पिछले कुछ दिनों से बहुत ही खराब बनी हुई है |

वायु प्रदुषण से पड़ने वाला असर :

  • विषाक्त पदार्थो से रक्त वाहिकाओं का व्यास कम हो सकता है | इस स्थिति में उच्च रक्तचाप भी हो सकता है |
  • विषाक्त वायु के कारण स्ट्रोक हो सकता है|
  • विषाक्त कण रक्त वहीनियों की दीवारों से गुजरते है और रक्त के प्रवाह को प्रभावित करते है|वे थ्राबोसिस के कारण बन सकते है|
  • विषाक्त हवा में सांस् लेने में महिलाओं को गर्भपात हो सकता है ,भूर्ण के विकास की समस्याएं पैदा हो सकती है |
  • हवा में विषक्ता पदार्थो के मिले होने से हृदय की क्रिया प्रणाली प्रभावित हो सकती है और ह्रदय की रिदम बिगड़ सकती है|
  • समय से पहले ही बच्चा का जन्म हो सकता है और जन्म के समय का वजन भी कम हो सकता है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *