भूमि खरीद घोटाले के आरोप पर भाजपा नेताओं का पलटवार

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मंगल पांडेय ने महागंठबंधन के घटक दल राजद से पूछा है कि दिल्ली में एक सौ करोड़ रुपये की लागत से निर्मित ‘राबड़ी भवन’ के लिए पैसे कहां से आये. कांग्रेस और जदयू को बताना चाहिए कि जिलों में उसके कार्यालयों के संचालन के लिए फंडिंग कौन कर रहा है.  पांडेय ने कहा कि देश के सभी राज्यों में अपना कार्यालय होने का निर्णय एक वर्ष पूर्व ही लिया गया था. इसी के तहत बिहार के कुछ जिलों में गत वर्ष से ही जमीन की खरीद हुई है. नोटबंदी से दूर-दूर तक कोई संबंध नहीं है. जमीन की खरीद में पूरी पारदर्शिता बरती गयी है और आरटीजीएस के जरिये भुगतान हुआ है.

 

नेता प्रतिपक्ष डॉ प्रेम कुमार ने कहा कि पार्टी को बेहतर तरीके से चलाने के लिए पार्टीकोष में सभी सदस्य अपना योगदान देते हैं. पार्टी कोष की उसी राशि से जिलों में कार्यालय के लिए जमीन खरीदी गयी है. सर्किल रेट पर जमीन का क्रय हुआ है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *